Beginner Blogger Seo Kaise Kare Detail Guide - Seokeys.in

Beginner Blogger Seo Kaise Kare Detail Guide

Beginner Blogger Seo Kaise Kare Expert Guide

Seo मतलब सर्च इंजन optimization दुसरे शब्दों में कहे तो गूगल के लिए ऐसे कंटेंट बनाना जो उसे रैंक करने के लिए मज़बूर करे ,शुरुआत में एक Beginner blogger seo kaise kare इसी जानकरी के बारे में आगे बहुत डिटेल में बताया गया हैBeginner Blogger Seo Kaise Kare Detail Guide

एक एक Headings को ध्यान से पढ़े | ताकि आपको SEO करते समय किसी भी प्रकार के परेशानिओ का सामना न करना पड़े तो आईये एक New Beginner Blogger seo kaise kare सीखते है

बिगिनर ब्लोगेर्स को अकसर seo करने में दिक्कतें आती है और वे मासूम students, जो कुछ सीख कर अपनी ज़िन्दगी में कामयाबी हासिल करना चाहता है वह सर्च करना शरू करता है लेकिन इधर उधर गूगल पर यूट्यूब तमाम तरह के कंटेंट देख कर कंफ्यूज हो जाता है

Beginner’s Blueprint to Creating a Blog | Blogger SEO Kaise Kare

इस लिए आज मैं इस blog में हर एक जानकारी देने जा रहा हूँ जिससे एक स्टूडेंट को ये सवाल फिर beginner blogger seo kaise kare नहीं सर्च करना पड़ेगा

इस पोस्ट में आगे आप सीखेंगे SEO कैसे करे , कितने प्रकार का स. सी. ओ. होता है , सबसे जयदा ब्लॉग को रैंक करने में कोनसा एलिमेंट seo में जरूरी है , keyword कैसे निकले , sitemap क्या होता है , on page ,Off page , backlinks ,links Etc

किसी भी नयी तकनीक को सीखने लिए उसके बेसिक को समझना बहुत ही आवश्यक होता है अगर वह चीज नहीं Clear रहेगी तो दिमाग में हमेशा confusion बना होगा जैसे किस घर को बनाते समय उसकी बुनियाद को मजबूत बनाया जाता है

ताकि वह बहुत समय तक चले | वैसे ही किसी भी न्यू चीज को सीखने के लिए उसके बेसिक का सीखना भी बहुत ही जरूरी है
गूगल पर अगर लम्बे समय तक बने रहना है तो Seo के बारे में जानना ही होगा

जैसे – Keywords , Title , Description , Content Writing , Research , Competition Analysis , Time management , URL struture इत्त्यादि |

What Is SEO | SEO क्या है ?

एक तरीका है जिससे अपने ब्लॉग पर ट्रैफिक को drive करने के लिए यूज़ किया जाता है इस प्रकृया से organic traffic मिलता है और वह लम्बे समय तक बना रहता है जिससे हमे अपने ब्लॉग के माध्यम से काफी सारा Online Income Generate कर सकते है

इस लिए SEO blogging carrier में सीख लेना काफी फायदे मंद साबित होता है अगर आप भी ऑनलाइन पैसा बनाना चाहते है तो आज ही से अपने Blog को SEO Optimize करना शुरू करदें

Why SEO is Eseential For Blog | SEO क्यों important है ?

जब को किसान अपने खेत में खेती के लिए बीज बोता है तो उसे ऐसे ही नहीं छोड़ता उस बीज से फल आने तक सारे जतन करता है उसमे पानी देता है , खाद्य डालता है , कीट नाशक दवा छिड़कता है ताकि उसमे जब फल तैयार होतो वह लाभ दे और किसान को फायदा पहुँचे |

उसी प्रकार जब आप एक blog Create करते है वह किस लिए बनाया है इसके बारे में क्यों नहीं सोचते है ? आपने ब्लॉग इसलिए बनाया था ताकि उससे online Paise कमाए , तो फिर अपने ब्लॉग का SEO करना क्यों नहीं शुरू करते है

अगर अपने ब्लॉग का स.सी.ओ. नहीं क्या तो लम्बे समय तक आप ब्लॉग को रैंक नहीं क्र पायगे आपको पर्याप्त ट्रैफिक कभी नहीं आएगा

जिसके कारण आप ब्लॉग्गिंग नहीं करेंगे और मैं नहीं चहता हूँ की मेरी पोस्ट पढ़ने के बाद भी खुद को कमजोर समझे आप खूब पैसे कमाए अपने ब्लॉग से इसी उद्देश्य के साथ मैं आप के लिए रिसर्च करके जानकरी पहुंचाता हूँ

Types Of SEO | SEO कितना प्रकार का होता है ?

यह commanly 2 ही प्रकार के थे लेकिन recent SEO data के अनुसार और कई ब्लोग्गेर्स पोस्ट को डिटेल study करने के बाद पता चला SEO के कई प्रकार हो सकते है लेकिन मैं आपको जो सबसे जयदा यूज़ होने वाला ही seo Type बताऊंगा जैसे -on page , off page , Technical SEO.

On page SEO क्या होता है ?

किसी भी ब्लॉग में जो काम backend में किया जाता है उसे On Page की श्रेड़ी में रखा जाता है On page
जैसे —

  • Keyword Optimization
  • Quality Content
  • User Experience
  • Meta Tags
  • Heading Tags
  • Internal and External Links
  • External quality link

Keyword Optimization: 

अपने ब्लॉग कंटेंट में कीवर्ड के ratio को maintain करना Keyword Optimization कहलाता है यह 1000 word count में 5 % का होता है कीवर्ड को कहाँ लिखना है कैसे keyword को adjust करना है

ब्लॉग में यह प्र्क्रया keyword mapping भी कहलाती है जैसे -Alt Tag, Tilte , HeadingTags ,Meta , URL , description ,में |

Meta Tags:

वे होते है जिन्हे गूगल समझ पाते है meta tags के कुछ उदहारण दिए गए है जोकि html कोड के रूप में होते है इन उदहारण से आपको और क्लियर हो जायगा की मेटा टैग का रोल क्यों जरूरी है

example meta tags

Quality Content:

ऐसे कंटेंट जिनमे जानकारी को हर तरह से समझने का प्रयास किया गया हो दुसरे शब्दों में कहे तो कोंटेट का वह समूह जिनमे images , video , tables headings , एक्साम्पलेस , keyword का सही यूज़ होना शामिल होता है

User Experience:

website का layout , navigation , redirection, color , easy understandble ,respons time सोशल लिंक्स इन सब का ध्यान देकर वेबसाइट को बनाया जाये तो user experience को kafi हद तक अच्छा किया जा सकता है

Heading Tags:

किसी भी पोस्ट हैडिंग हमे ये बताता है जी इसमें आगे क्या जानकरी सीखने को मिलेगी मिसाल के लिए एक heading tag लिख देता हूँ (New Beginner Blogger seo kaise kare) अब इस हैडिंग से पता चल रहा है की आगे किस टॉपिक पर बात होगी इसी को हैडिंग बोलते है H1 से H6 तक हैडिंग टैग्स होते है इनको प्रॉपर तरीके से use करना SEO में काफी help करता है

नोट – किसी भी पोस्ट में केवल एक ही H1 हो सकता है बाकि हम अपने अनुसार यूज़ कर सकते है लेकिन H1 tag केवल एक ही होगा |

Off Page SEO क्या होता है ?

बैकलिंक्स बनाना , साइट की reputation बनाना , और जितने भी prectice हम अपनी साइट से बाहर जारकर करते है वह सारे OFF Page seo होते है जैसे –

  • link building
  • online reputation
  • Social Signals
  • Backlinks (Link Building)
  • Social Media Marketing
  • Social Bookmarking
  • Content Marketing
  • Influencer Outreach
  • Online Reputation Management
  • Local SEO

Technical SEO क्या होता है ?

Technical SEO से हम साइट के सरे internal technical elements को focus करते है जिससे यूजर experience बना रहे और साइट की traffic गिरे न Technical SEO में शमिल है जैसे – Crawlling , HTTPS , load time , indexing

  • Mobile Optimization
  • Responsive website design
  • Loading Page Speed time
  • SSL
  • Structure data markup
  • HTTPS
  • Indexing & Crawlling
  • XML Sitemap (this is cruxs)
  • Schema markup
  • Robot.txt
  • URL structures
  • Mobile responsive

The Roll in SEO- Internal Links

Improved Navigation: इंटरनल लिंक यूज के द्वारा किसी भी यूजर के नेविगेशन के लिए दिया जाता है ताकि वह इस टॉपिक से मिलते जुलते और भी पेज पर जाये इससे आपके पेज की authorty बढ़ती है और User spent Time भी increase होता रहता है

Distributes Page Authority: इंटेरनल लिंक से पेज अथॉरिटी बढ़ने के साथ साथ आप गूगल सर्च इंजन को भी help करते है की मेरे website पर और भी कुछ important पेजेज है

Enhances SEO: links, ब्लॉग को आपस में इक दुसरे से लिंक करने पर सर्च इंजन को आपके वेबसाइट structure को समझने में भी मदद मिलती है जिससे indexing करने में आसानी होती है,

Increases Time on Site:  जब हम पोस्ट को एक दुसरे से लिंक करते है तो यूजर का रीडिंग टाइम भी बढ़ता है और यूजर को डिटेल में जानकरी हासिल हो जाती है इससे आपके साइट का bounce rate कम हो जाता है

Contextual Relevance: एक पोस्ट को उसी की तरह के किसी दुसरे पेज से आपस में अपनी वेबसाइट पर ही लिंक करने से यूजर और गूगल की नज़र में अच्छी छवि बन जाती है और पेज रैंक होना स्टार्ट कर देते है

External Links ka seo kaise kare

Credibility and Authority: जब हम अपने पेज से कसी दूसरी साइट पर जाने के लिए किसी ऐसी वेबसाइट पर यूजर को भेजते है जिनकी authority होती है तो गूगल की नज़र में बता रहे होते है की हमने Content writing से पहले अपनी अच्छी रिसर्च की है

Networking and Relationship Building: जब किसी other ब्लोग्गेर्स के साइट को एक्सटर्नल लिंक द्वारा लिंक देते है तो कही न कही हम उस ब्लॉगर को help कर रहे होते है उसकी पेज authority को बढ़ाने में , इससे एक दुसरे के बीच good realtionship build होता है

SEO Benefits: एक्सटर्नल व इंटरनल लिंक बिल्डिंग से कही न कही सर्च इंजिन्स को signal भेझ रहे होते है की हम अपनी साइट का seo ठीक से कर रहे है लेकिन याद रहे एक्सटर्नल लिंक केवल quality वाले ही होने चाहिए वरना गूगल penalize करदेगा

User Trust: एक अच्छा external लिंक यूजर के trust को बढ़ता है और authority site से external लिंक लेना आपकी ब्लॉग छवि को भी बढ़ा देता है

Content Enrichment: आपके एक्सटर्नल लिंक से आपके पोस्ट को रैंक होने में देर नहीं होती क्युकी इससे आपके research वर्क के related ही link होते है पोस्ट में.

सर्च इंजिन्स Google SEO को कैसे समझते है

गूगल की तरफ से पैरामीटर्स बनाये गए है जिन्हें Full fill कर SEO के कार्य पूर्ण किये जातें है जिनमे से टाइटल होता , डिस्क्रिप्शन ,Google के कुछ 200 पैरामीटर्स है जिन्हे वह देख कर पता लगा लेता है की पेज seo optimize है या नहीं,

जैसे – content लेंथ , टाइटल , कीवर्ड , पैराग्राफ , url , hightlight points ,Quality ऑफ़ content , पेजेज लोड टाइम , मोबाइल frindelyness सोशल सिग्नल्स जैसे फेसबुक , इष्टग्राम , twitter , linkdin etc

Blogger Seo Kaise Kare | Important Parameter List

  1. Profile links
  2. Authority and Relevance:
  3. Diversity of Backlinks
  4. No-Follow Links:
  5. Brand Presence
  6. Avoiding Spammy Practice

IS profile links are essential for SEO-

important para meter  है जी हां लिंक प्रोफाइल बिल्डिंग बहुत जरूरी है आज के समय यह गूगल को सिग्नल भेजता है की वेबसाइट ऑथेंटिक है और सोशल साइट्स पर एक्टिव है कोई fruad काम नहीं हो रहा है

इसलिए प्रोफाइल लिंक बना लेना जरूरी है जैसे qoura , medium ,reddit , guest postting साइट्स, etc.

Advantages of SEO in blogs

  1. Visibility
  2. Traffic Generation:
  3. User Experience
  4. Credibility and Trust
  5. Long-Term Benefits:
  6. Cost-Effective Marketing
  7. Competitive Advantage
Disadvantage
  1. Limited Visibility
  2. Reduced Organic Traffic
  3. Competitive Disadvantage
  4. Limited Reach and Impact
  5. Difficulty in Ranking
  6. Inconsistent Performance
  7. Missed Monetization Opportunities

अधिक जानकारी के लिए यह वीडियो देखे –

Conclusion- इस ब्लॉग में अपने सीखा Beginner Blogger Seo Kaise Kare, seo क्यों जरूरी है इसके फायदे seo के टाइप्स, कीवर्ड क्या है प्रोफाइल लिंक क्या होते है एक नया ब्लॉगर ब्लॉग कैसे बांये इत्यादि लेकिन फिर भी कोई कसर रह गया हो तो please कमेंट करे हम आपसे ईमेल के जरिये कनेक्ट करेंगे |

 

Leave a Comment